एक सवाल 

I have always been a huge fan of metaphors. I just admire the way it conveys everything without actually revealing anything. So, here I tried to bake a short story by adding pinch of metaphor. Read between the lines ,decipher it and answer the question if you can.

bird

एक रात मेरे बिस्तर से लगी खिड़की पर एक घायल चिड़िया आ गयी, उसके पंखो में गहरी चोट आई थी । वो दर्द से
कराह रही थी पर बेजुबान कहती भी तो किससे। उसका दर्द मेरी आँखों में उतर आया। मैनें बड़े आहिस्ते से उसके जख्म साफ़ किये, बिना ये सोचे कि कहीं यह मुझे ही चोट ना पहुंचाए पर उसने भी ऐसा नहीं किया शायद वो भी अपनेपन को भांप चुकी थी। मैं उसे सहलाते-सहलाते उसके मोती जैसे आंखों में खो गई।
फिर क्या वो चिड़िया रोज मेरी खिड़की पे आने लगी ।
जख्म अभी ताजा थे, मैं भी सब भूल उसके जख्म भरने में लग गई। मैं रोज अपनी थकान भरी जिंदगी से दूर हर शाम उसका इंतजार करती। हम रोज वहीं मिलते, घंटों वो वहीं रहती, इतना सुकून मुझे और कहीं नहीं मिलता। हमने उस छोटी सी खिड़की पर अपनी अलग दुनिया बना ली।
दिन बितते गये, मौसम बदले…
सावन की एक रात वो आखिरी बार आई, इस शूनी खिड़की ने उसे फिर कभी नहीं देखा ।
उसके जख्म अब भर चुके थे पर मेरी जिंदगी में अब एक विशाल सूनापन रह गया था
मैं आज भी इस खिड़की पे घंटों बिताया करती हूं, मेरी नज़र आज भी यहां उड़ते पंछियों में उसे धूंधती है।
अब इन सब के बीच सवाल ये है कि दोष किसका था ?
उस बेदर्द चोट का जो उसे मेरे पास ले आई, उस मतलबी चिड़िया का जिसने पीछे मुड़कर कभी नहीं देखा, या बेवकूफ मैं जो प्रकृति के नियम जानते हुए भी परिंदों से इतना लगाव कर बैठी ?

💕🌷

12 thoughts on “एक सवाल 

  1. Dosh to un halato ka tha..

    Us ghav ko tumhare pass uska ilaz dikha jo sirf tumhari khidki pr aa ruka…

    Matlabi chidiya nhi vo ghav nikla jo bharne ke baad kabhi piche muda hi nhi…

    Aur tum bevkuf nhi kyuki ilaz krne vala ache se acha dr. bhi severe case dekhkr apni jaan laga deta hai bina kch soche samjhe…

    👏👏👍👍

    💕🌷

    Liked by 1 person

  2. किसी भी व्यक्ति या वस्तु से इतना लगाव – मोह कभी नहीं बढ़ाना चाहिए की हम इसके बिना जी ना सके..

    Liked by 1 person

    1. Aisa koi particular reason nhi h..bas itna tym nhi nikl paata..or fir social media aapko indirectly pressurise krta h khi na khi har chij p opinion rkhne k liye..to bs😌

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s