दर्द

मैं तो अपनी बातें लिखती हूं, लोगों को अपनी लगतीं हैं। शायद अलग-अलग शरीर में बसे ‘दर्द ‘ की रूह एक ही है।।

🌷💕

33 thoughts on “दर्द

  1. बिल्कुल सही।।।।
    कोई रिश्ता नहीं मगर उसके रोने पर
    दिल तड़पता है और
    आंसू आ ही जाते हैं।

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s