खत

सुबह से मेरे गालों पे छाई लाली देख लोग सवाल पूछ रहे हैं,
कल रात आया एक खत तकिये के नीचे छुपा ज़बाब दे रहा है।

🌷💕

19 thoughts on “खत

  1. kyaa baat……laajwaab….
    एक एक शब्द धमनियों में घुल मिला है,
    पता है सबको ये चेहरा क्यों गुलाब सा खिला है।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s